Changing is the key for success,अपने अंदर समय के मुताबिक बदलाव लाइए

Changing,हमे यह नहीं सोचना चाहिए की सब अपने आप ही बदल जायेगा,सब सही हो जायेगा,समय के साथ सब ठीक हो जायेगा.

कितने लोग अपने अंदर बदलाव(Change) नहीं लाते,वह सोचते हे की जो हे वह पर्याप्त हे लेकिन हमारा जीवन(Life) बहुत लम्बा हे,हमे हमारे अंदर बदलाव(Change) लाने होगे,जो बदलता नहीं वह नष्ट हो जाता हे,वह एक स्थान पर ही रुक जाता हे,क्युकी परिवर्तन ही श्रुष्टि का नियम हे,और हमारे अंदर बदलाव लानेसे हमे बहुत कुछ नया सीखने को मिलेगा और हम जीवन(Life) मे आगे बढ़ेंगे.

Changing-बदलाव जरुरी है

एक ही जगह पर मत बैठे रहे,अपने जीवनमे आगे बढ़नेके लिए अपने अंदर जरूरी बदलाव(Change) लाये,अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकले.

जो हुआ हे उसे सोच सोच कर अपना दिमाग खराब मत करें,उसे भूलकर आगे बढ़े क्युकी आप कितना भी past के बारेमे सोचोगे की ‘मैंने ऐसा किया होता तो अच्छा होता’,इससे कुछ हासिल  नहीं होगा,तो past के बारेमे सोचनेकी बजाय future को बेहतर बनाने के बारेमे सोचे.

जब भी आप आगे बढ़नेके बारेमे सोचते हो तो एक नया मौका(Opportunity) वहां आपकी राह देख रहा होता हे,इसीलिए आगे बढ़े वरना आप वह मौके को खो दोगे.


Example:

Changing Raina
Suresh Raina

Indian Cricketer Suresh Raina वह जब batting करते हे तब उन्हें Fast Bowler की Short Pitch Ball को खेलनेमे परेशानी होती हे,यदि वह उनमे बदलाव नहीं लाएंगे तो क्या होगा? Bowler को पता हे की यह उनकी Weakness हे तो वह वही ball फेकेगा और Raina इस ball को खेल नहीं पाएंगे और हर बार इसी ball पे out हो जायेंगे,इससे उनका performance खराब होगा,तो उनको क्या करना पड़ेगा की इस बोल पर खेलनेकी ज्यादा से ज्यादा practice करनी पड़ेगी मतलब की उनको अपने अंदर बदलाव लाना पड़ेगा,उन्हें अपने comfort zone से बाहर निकलना पड़ेगा(Practice makes Mans perfect),फिर वह इस बोल को खेलनेमे comfort हो जायेंगे और उनका performance बेहतर हो जायेगा और उनके अंदर जो एक Weakness थी वह दूर हो जाएगी.

“Changing-परिवर्तन ही सृष्टि का नियम है”,समय अनुसार बदलते रहिये, आगे बढ़ते रहिये.
(Visited 30 times, 1 visits today)