11 खास चाइल्ड डेवलपमेंट एडवाइस जो हरेक माँ-बाप को शिखनी चाहिए

Child development advice उन parents के लिए हे जो चाहते हे की उनके बच्चे का physically, socially, emotionally सभी तरीके से विकास हो.

Child development means की baby के अंदर कुछ skills का विकास करना, जैसे उसे किस तरीकेसे बेठना हे, चलना हे, बात करनी हे, shoes पहनना हे, खाना हे वगैरह.

जन्म से 5 साल तक आपका बच्चा कुछ लक्ष्यों तक पहुचना चाहिए जैसे की वह किस तरह से खेलता हे, शिखता हे, बोलता हे, व्यवहार करता हे वगैरह,यदि आप अपने child के development को लेकर concern हे तो जल्द से जल्द उसे track करिये.

Child development advice

Child development में आपको Centers for Disease Control and Prevention से काफी help मिल शकती हे.

Child development advice for 5 main areas

Child development advice

1.Cognitive Development

यह child की वह ability हे जिसमे वह problems को जांचना और उसे किस तराह से solve करना हे वह शिखेगा,उदहारण की बात करे तो यह इस तरह से हे जैसे एक 5 साल का बच्चा यह शिखता हे की सामान्य गणित की problems को किस तरह से सुलाजाना हे.

2.Social and emotional development

यह child की वह ability हे जिसमे वह शिखता हे की लोगो के साथ किस तरह से बात-चित करनी हे,जिसमे लोगो की help करना और self-control जैसी बातो का भी समावेश होता हे,वह शिखेगा की अपनी feelings को अधिक प्रभावशाली रुप से किस तरह से express और recognize करना हे,child को experience प्राप्त होगा लोगोके emotions को समजना और उसका प्रत्युत्तर देना.

3.Language and speech development

यह child की वह ability हे जिसमे वह language को समजना और उसका किस तरह से उपयोग करना हे वह शिखेगा,उदाहरन के तोर पर 12 month का baby उसका पहला word बोलेगा,2 साल का baby उसके शरीर के अंगो के नाम बोलेगा वगैरह.

4.Fine motor skill development

यह child की वह ability हे जिसमे वह अपने small muscle का किस तरह से उपयोग करना हे वह शिखेगा,विशेष रूप से उसकी उंगलिया और हाथ,जैसे की छोटी चीजो को उठाना,चमच पकड़ना,book के पन्ने पलटना वगैरह.

5.Gross motor skill development

यह child की वह ability हे जिसमे वह large muscle का किस तरह से उपयोग करना हे वह शिखेगा,उदाहरन के तोर पर 6 month का baby शिखता हे की किसी चीज का support लेकर किस तरह से आधे उठाना हे,12 महीने का बच्चा शिखेगा की furniture का सहारा लेकर किस तरह से खड़े होना हे वगैरह.

Child development advice

बालक को शुरूआती दौर में मिलने वाला अनुभव,अपने माता-पिता के साथ जो bonds का निर्मार्ण होता हे,उनको बचपन के शुरूआती दौर में जो first learning experience मिलते हे वह उनके future physical,emotional,cognitive और social development को बहुत ही गहराई से प्रभावित करते हे.

हमारे India में एक कहावत भी हे “पेड़ जब छोटा होता हे तब हम उसे जैसा चाहे वैसा मोड़ शकते हे लेकिन एक बार वह बड़ा हो जाएगा फिर वह टूट जाएगा लेकिन मुड़ेगा नहीं” यह नियम बालक को भी लागु होता हे उसे सभ्यता,आदर,बोलचाल और दूसरी सभी शिक्षा हम बचपन में ही शिखा शकते हे लेकिन एक बार वह बड़ा हो जाएगा फिर उसे यह सब शिखाना बहुत ही मुस्किल हे.

मकान कितना मजबूत हे, वह कितने सालो तक खड़ा रह पायेगा वह उसकी नींव पर निर्भर करता हे, यदि नींव मजबूत होगी तो उसे सालो तक कुछ नहीं होगा और यदि नींव ही मजबूत नहीं होगी तो वह कुछ सालो में,कुछ सालो क्या, कुछ महीनो में ही जमीन दोस्त हो जाएगा(गिर जाएगा),अब आप समज ही गये होंगे की हमको क्या करना हे.

कृपया इन्हें भी पढ़े

अपने मन को कैसे control करे? 

क्यों skill development education से ज्यादा महत्वपूर्ण हे?

Success के लिए बदलाव क्यों जरुरी हे?

एक अच्छे teacher कैसे बने?

Suicide मुश्किलों का हल नहीं हे

लोगो के साथ बातचीत कैसे करे? 

प्रभावशाली leader में कौन सी खासियत होनी चाहिए

11 Special Child development advice-Parents क्या आप तो यह गलती नहीं कर रहे?

  • यदि आपका child intentionally आपको disturb कर रहा हे,इसके पीछे यह तो कारन नहीं हे की आप उसे शारीरिक रूप से पर्याप्त स्नेह नहीं दे पा रहे हे.
  • यदि आपका बच्चा झूठ बोलता हे,इसका मतलब यह तो नहीं हे की भूतकाल में उसने कुछ गलती की हो और उस वक्त आपने overreact किया हो.
  • यदि आपका बालक poor self-esteem से पीड़ित हे,इसका यह मतलब तो नहीं हे की आप अपने बच्चे को encourage करनेसे ज्यादा उसे advice दे रहे हे.
  • यदि आपका बच्चा उसके लिए बोल नहीं पा रहा हे,इसका यह मतलब तो नहीं हे की आपने उसे लोगो मे नियमित रूप से अनुशासित बना दिया हो-माँ बाप को यह लोगोके सामने तो क्या लेकिन siblings,cousins और friends के सामने भी नहीं करना चाहिए.
  • यदि आप अपने बच्चे की सभी चीजे खुद ही खरीदते हे और तब भी वह सभी चीजें आपका बच्चा स्वीकार कर रहा हे जो उसे नहीं पसंद हे,इसका यह कारन हे की आप उसे choose करने का option ही नहीं देते
  • यदि आपका बालक डरपोक हे,इसका यह मतलब तो नहीं हे की आप उसकी help करनेमे कुछ ज्यादा ही जल्दबाजी करते हे,उसके रास्ते में आनेवाली हरेक रुकवाते आप दूर मत कीजिये-कभी उसे तो मौका दीजिये की वह भी कुछ करे.
  • यदि आपका बालक jealous हे,इसके पीछे शायद यह कारन तो नहीं हे की आप उसे  दुसरो के साथ सतत compare करते रहते हे.
  • यदि आपका बालक बहुत जल्दी गुस्सा हो जाता हे,इसके पीछे यह कारन तो नहीं हे की शायद आप उसकी पर्याप्त सराहना नहीं करते और वह केवल आपका ध्यान बतानेके लिए misbehaving का नाटक कर रहा हो.
  • यदि आपका child दुसरो के feeling की कद्र नहीं करता,इसका शायद यह कारन तो नहीं हे की आप उसे हमेशा केवल order ही देते हो-आप उसकी feeling को कभी भी importance ही नहीं देते हो.
  • यदि आपका child secretive हे,इसके पीछे यह कारन तो नहीं हे की आपको आदत हे छोटी बातो को बहुत बड़ा करनेकी.
  • यदि आपका बच्चा rudely behave करता हे,इसका यह कारन तो नहीं हे की शायद वह यह आपसे या फिर उसके साथ जो लोग रह रहे हे उनसे सिखा हो.

Conclusion

यदि हम parents हे तो हे ना यह सब सोचने जैसी बातें,हम मनुष्य हे और मनुष्य से ही गलती होती हे लेकिन हम गलती को सुधार शकते हे और अपने बच्चे को योग्य शिक्षा देकर उसके future को संवार शकते हे.

यदि आपको यह child development advice पसंद आयी हो तो Please इसे निचे दी गई Social Sites पर जरूर Share करे,इससे Related आपका कोई सुजाव हो तो मुझे Comment के माध्यम से बताये और मेरी नयी Post सीधे आपके Inbox में पानेके लिए मेरा Blog Subscribe कीजिये, Thank You!

(Visited 114 times, 1 visits today)