At Least You Can Express Gratitude

आभार व्यक्त करना(Express Gratitude)-यह सबसे महत्वपूर्ण चीज हे,जिसमे उपकार को स्वीकार करने का अभिगम नहीं हे वह व्यक्ति आभार रहित बर्ताव करेगा,वह व्यक्ति इतने अनमोल शब्द ‘Thank You’ की भी उपेक्षा करेगा और ऐसा अभिगम व्यक्ति की अयोग्यता को दर्शाता हे और ऐसा व्यवहार सामने वाले व्यक्ति की help करने की feeling को भी नुकशान पहुँचता हे.

जैसे यदि हम किसी भिखारी को 5 रूपये दे और वह ऐसा बोले की ‘सिर्फ 5 ही रूपये’,उसके मुँह से ऐसे शब्द सुनकर हम सोचेंगे की लाओ इससे 5 रूपये भी वापस ले लू,यह इसके भी लायक नहीं हे.

At Least Express Gratitude-इसी से संबंधित यह दिलचस्प कहानी है

एक श्रीमंत व्यापारी cash 15 लाख रूपये लेकर एक taxi में जा रहा था,उसके उतरने का स्थान आया और वह उतर गया,लेकिन वह जल्दबाजी में रुपयों से भरी bag वही भूल गया,taxi driver को इस घटना की कोई खबर नहीं थी,वह जब उस व्यापारी को छोड़कर घर पहुंचा तो उसने देखा की गाडी की पीछे की सीट पर एक bag पड़ा हुआ था,उसने bag खोलकर देखा तो उसमे पड़े पैसो को देखकर वह चौक गया लेकिन वह प्रामाणिक था,पैसो को देखकर वह थोडासा भी विचलित नहीं हुआ उसके मन में लालच नहीं आया.

हरेक माँ-बाप को पढनी चाहिए यह Child Development Advice

उसकी भावना उस पैसो को उसके मालिक तक पहुंचने की हुई,लेकिन समस्या यह थी की यह पैसे किस प्रवासी के होंगे इसका पता लगाना मुश्किल था, taxi driver की इच्छा थी की वह पैसे किसी भी तरह से उसके सही मालिक तक पहुचाये जाए और इस वजह से उसने पुरे एक महीने तक उसको धुंध ने के प्रयास जारी रखे,उसको जब पूरी पुष्टि हो गई की उसका मालिक यही हे तब वह एक दिन दोपहर को उस व्यापारी की office पर गया.

Express Gratitude

Express Gratitude

व्यापारी को उसके खोये हुए पैसे वापिस आएंगे उसकी कोई आशा नहीं थी,वह तो उन पैसो को भूल भी गया था,एकदम से पैसे वापिस मिलने पर उसने सबसे पहला काम पैसो को गिनने का किया,वह प्रामाणिक driver को व्यापारी की यह हरकत देखकर बहुत ही बुरा लगा,उसने सोचा कि मुझे शाबाशी देना तो दूर रहा लेकिन यह तो पैसो को गिनकर मुझपर शक(doubt) कर रहा हे,वह गुस्से से उसको देखता ही रहा,हद तो तब हुई जब व्यापारी ने रकम पुरे पूरी हे की नहीं उसकी पुष्टि(confirmation) करने के बाद इनाम(reward) या शाबाशी का एक शब्द बोले बिना पैसो को दोबारा गिना.

How to support your child

Said, Heard, Viewed-केवल कही सुनी बातो पर विस्वास न करे 

अब वह driver से रहा नहीं गया,वह तीखे शब्दों से बोला रकम(amount) तो बरोबर हे ना? कुछ इधर उधर तो नहीं हे ना? व्यापारी ने बहुत ही फीका उत्तर दिया, नहीं नहीं में तो पैसे गिनकर यह सोच रहा था की मैंने एक महीने में इसका कितना ब्याज(interest) गवाया, driver कुछ भी बोले बिना वहा से चल दिया,उसका उल्लास हताशा में तब्दील हो गया, उसने सोचा की यदि किसी की खोई चीज लौटाकर इनाम या शाबासी के दो शब्द भी मिलते न हो तो यह bag लौटाकर मुझे क्या मिला?

Conclusion:-

यह story का तात्पर्य यही है कि ‘ऐसे एक प्रशंसनीय सत्कार्य(Good deeds) की उपेक्षा(neglect) करने से वह ऐसे बढ़ने वाले हजार सत्कार्य को होने से ही रोक देगा,careful: हमें ऐसा व्यवहार कभी नहीं करना चाहिए की कोई व्यक्ति demotivate हो जाये, भले हम व्यक्ति को इनाम न दे पाए लेकिन उसे प्रसंशा,शाबासी के दो-तीन शब्द तो दे ही सकते हे, Thank you, Thanks a Lot तो कह ही सकते हे.

Tips-जिससे Bike एक्सीडेंट को कम किया जा सकता हे 

So at least Express Gratitude-कम से कम आभार तो माने

 

(Visited 13 times, 1 visits today)