अटल faith से विजयी होते हे-भगवान Shiv Story in Hindi

Faith(विस्वास) बहुत बड़ी चीज हे,अगर अटल विस्वास हो तो पथ्थर(Stone) मे से भी परमात्मा(God) प्रगट हो जाते हे,कुछ भी काम करो,अगर विस्वास रखनेकी कला(Art)  हमको आ गयी तो हम अवस्य ही विजयी(Victorious) होगे.

Faith
Lord Shiv

 

Power of Faith

 

स्वेत मुनि भगवान शिव(Lord Shiv) के परम भक्त थे,वह पहाड़ो(Mountain) की निर्जन गुफाओंमे(Cave) जीवनके उत्तराध्य में शिवजी की पुरे आत्मविश्वास से उपाशना(Worship) करते थे,एक दिन वह जब रुद्राध्यायी का पाठ  कर रहे थे तब उन्होंने एक विकराल आकृति(Picture) देख वह चौक गए,उन्होंने देखा की यमदूत उन्हें लेनेके लिए आये थे,स्वेत मुनीने पहले उनको नमस्कार किया और बादमे अपनी पूजा(Prayer) में लीन हो गए,यमदूत ने उन्हें रोका और कहा,पृथ्वी पे आपका आयुस्य इसी समय खत्म हो रहा हे,अब आप मेरे साथ चले,मुनि तो अपनी गुफा में शिवलिंग की पूजा करते रहे,यमदूत ने उन्हें वापिस टोका,मुनीने यमदूत को समजाया,में मृत्युंजय महाकाल की आराधना(Adoration) कर रहा हु तब इसमें विघ्न डालना उचित बात नही हे,लेकिन आज्ञा(Order) से बंधा हुआ यमदूत कुछ भी सुनने को तैयार नही था,यमदूत ने मुनि को कहा,शिवलिंग की शक्ति शून्य हे,पथ्थरमे शिव की कल्पना करना मूर्खता हे,इसलिए इसी समय निकलनेकी तैयारी करो,मेरे लिए अब प्रतीक्षा(Wait) करना मुश्किल हे,स्वेत मुनि दूत के तर्क के साथ सहमत(Agree) नही थे,वह बोले पत्थर भी परमात्मा ही हे,क्युकी भगवान(God) कण कण में व्याप्त हे,मुनि इतना बोल रहे थे तब तक तो दूत ने तलवार निकाली,दूत के तलवार निकालते ही स्वेत मुनिके अटल विस्वास(Faith) के कारण पत्थर में से भी भगवान प्रकट हो गए,शिवजी को साक्षात देख यमदूत तो बचारा वहा से भाग ही गया.

तो इस Story से हमको यह सीखना हे की अगर अटल विस्वास हो तो पत्थर में से भी परमात्मा प्रकट हो जाते हे,विस्वास बहुत बड़ी संपत्ति हे,हम कोई भी काम करे अगर विस्वास रखनेकी कला(Art) हमको आ गयी तो हम अवश्य विजयी होंगे.

बिना Faith(विस्वास) से कोई काम नही होता विस्वास बहुत बड़ी चीज हे.

आपको यह post कैसी लगी? यदि अच्छी लगी हो तो please इसे अपने friends और relatives के साथ share करना न भूले और निचे comment box में comment जरूर करें

(Visited 160 times, 1 visits today)