When God Help Me and You? भगवान हमारी मदद कब करेंगे

आज बात करेंगे: When god help me and you, भगवान मेरी और आपकी मदद कब करेंगे?

आगे आनेवाले हरेक शब्द को बहुत ध्यान से पढिये, यह आपकी life में काफी काम में आनेवाले हे.

god help me

जब भी आप problems में हो तब इसे एक से दो बार जरुर पढ़े-You Will Get Motivation

भगवान मेरी और आपकी मदद कब करेंगे? When God Help Me and You?

life की समस्याओ से परेशान होकर हार मानते हुए या अपना जीवन समाप्त करते हुए आपने काफी लोगो को देखा होगा, हमे भगवान श्री कृष्ण के जीवन से काफी कुछ सीखना होगा, उनके जन्म से पहले ही उन्हें मारने की सभी तैयारी हो गई थी, लेकिन उसमे से वह सही सलामत निकल गये.

उनका जब जन्म हुआ उसके पश्चात भी वह जब बालक थे और बड़े हुए उस दौरान उनके जीवन में काफी मुसीबते आई लेकिन वह बिना हार माने लड़ते रहे, कोई न कोई idea लगाकर दुश्मनों से बचते रहे, एक समय ऐसा भी आया जब उनको रण छोड़कर भागना पडा और वह रणछोड कहलाये.

आपने उनके विषय में ऐसा कभी नहीं पढ़ा होगा की मेरे जीवन में इतनी मुसीबते क्यों आ रही हे ऐसा सोचकर वह किसी दिन अपनी जन्मकुंडली बताने गये हो, उन्होंने खुल्ले पैर चलने की मन्नत रखी हो, कोई उपवास किया हो, किसी के पास धागा करवाने गये हो.

उन्होंने यज्ञ किया वह भी केवल और केवल कर्मो का.

महाभारत के युध्ध में वह अर्जुन के सारथि बने थे और जब युध्ध के दौरान अर्जुन ने धनुष रख दिया तब भगवान श्री कृष्ण ने न तो अर्जुन के जन्माक्षर देखे, न तो उसे कोई तावीज या धागा दिया, भगवान श्री कृष्ण ने उसे स्पष्ट शब्दों में कहा की “यह युध्ध तुम्हारा हे और तुम्हे इसे लड़ना हे”.

वरना Shree Krishna, भगवान विष्णु के आंठ्वे अवतार थे और एक महान योध्धा थे, वह चाहते तो खुद युद्ध लड़ सकते थे, शस्त्र उठा सकते थे और अकेले पूरी कौरव सेना को हरा सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया, वह अकेले युध्ध को चंद पलो में समाप्त कर सकते थे इसके बावजूद जब अर्जुन ने लड़ने की तैयारी दिखाई तब वह उसके सारथि बनने के लिए तैयार थे.

इस तरह भगवान श्री कृष्ण समजाते हे की दुनिया की मुसीबतों में जब तुम अकेले लड़ोगे तो में हमेशा तुम्हारे आगे खड़ा रहूँगा, तुम्हारी हर समस्या का में समाधान करूंगा, तुम्हारा मार्गदर्शन करूंगा, तुम्हारी मुसीबते को कम करूंगा, “कर्म करता जा, आवाहन करता जा, मदद तैयार हे”.

शायद गीता का यही सबसे संक्षिप्त सार(essence) हे.

अब जब भी में या आप भगवान के सामने जाए तब उनसे यही प्राथना करे की भगवान “मुझे मुसीबतों से लड़ने की शक्ति दे, न की भगवान मेरी सारी मुसीबते दूर करे”.

मेरे साथ मेरे भगवान हे: Problem Solving Tips

भगवान यह नहीं चाहते की में उनके पास चलकर जाऊ, उनके लिए उपवास करू, उन्हें प्रसाद चधाऊ, वह चाहते हे में बिना स्वार्थ के “कर्म” करू.

I think now you know when God help Me and You: LIKE IT SHARE IT.

 

 

(Visited 115 times, 1 visits today)

One Response