Interesting Story About Good Karma Bad Karma

Good Karma(अच्छे कर्म)-Bad Karma(बुरे कर्म),आपने यह तो सुना ही होगा “जैसी करनी वैसी भरनी” जो जैसा कर्म करता हे उसे फल भी वैसा ही मिलता हे,यदि हम अच्छे कर्म करेंगे तो फल भी अच्छे मिलेंगे और बुरे कर्म करेंगे तो फल भी वैसे ही मिलेंगे,राजा और उसके मंत्रियों की यह story बहुत ही interesting हे और इसका मर्म यही हे.

good karma

Good Karma-Bad Karma-Interesting Story

एक बार एक राजा ने उसके तीन मंत्रियों को बुलाया,जैसे ही मंत्री उनको पास आये राजाने उनसे कहा “मुझे आपको आज एक काम देना हे जो प्रजा के हित में हे और आपको करना हे.काम यह हे की आपको बगीचे(garden) में जाना हे और वहासे फल इकट्ठे कर एक थैले में भरकर लाना हे और आप जो अपने थैले में फल लेकर आयेंगे उसे में जिन लोगो को इसकी जरुरत हे उन्हें दे दूंगा.

काम यह हे की आपको बगीचे(garden) में जाना हे और वहासे फल(fruits) इकट्ठे कर एक थैले(bag) में भरकर लाना हे,जो फल आप अपने थैले में भरकर लायेंगे उसे में जिन लोगो को इसकी जरुरत होगी उन्हें दे दूंगा.

तीनो मंत्री फल लेने बगीचे में गए, पहले मंत्री ने सोचा की राजा केवल भरा हुआ थैला ही देखेंगे उसमे क्या हे वह नहीं देखेंगे,क्युकी उनके पास उतना समय नहीं हे की वह समय निकाल कर उसे देखे इसलिए उसने घास-पूस जो भी मिला उससे थैला भर दिया.

दुसरे मंत्री ने सोचा “में मेहनत कर जो फल इकट्ठा करूँगा और राजा के पास ले जाऊँगा वह फल राजा कहा खाने वाले हे वह तो उसे प्रजा में बाँट देंगे तो फिर मेहनत करने का फायदा क्या हे?,”उसने सोचा की खाली फोकट की में क्यों मेहनत करू इसलिए उसने पेड़ पर चढने के बजाय  पैड के निचे पड़े सड़े(rotten) हुए फल इकट्ठा कर लिए और उससे उसका थैला भर लिया.

तीसरा मंत्री बगीचे में गया उसने राजा की आज्ञा का पालन किया,प्रजा के लिए अच्छे अच्छे फल इकट्ठे किये जिसमे उसको काफी मेहनत करनी पड़ी लेकिन राजा की आज्ञा थी जिसका उसे पालन करना ही था इसलिए उसने प्रजा के लिए अच्छे तरीके से पके हुए और बढ़िया से बढ़िया फल इकट्ठे किये.

ओम का अर्थ और उसके Health Benefits

तीनो मंत्री अपने अपने फलो से भरे हुए थैले लेकर राजा के दरबार में गए,अब राजा ने यह हुकम किया की अब हरेक मंत्री को अपने अपने थैले के साथ एक रूम(room) में बंध कर दिया जाए और एक महीने तक उनके रूम खोलने नहीं हे और उनको कुछ खाने के लिए भी देना नहीं हे,जो वह प्रजा के लिए फल लाये हे वही उनको इस एक महीने के दौरान खाने हे.

Conclusion:-

दोस्तों भगवान(god) भी एक राजा हे और हम सब उनके मंत्री हे,भगवान ने हमे कर्म रूपी फल इकट्ठे करने के लिए इस जगत(universe) रूपी बगीचे में भेजा हे,अब हमे तय करना हे की हमे कैसे फल इकट्ठे करने हे,लेकिन यह बात तो पक्की हे की हमारे द्वारा इकट्ठा किया हुआ फलो का थैला हमे ही मिलने वाला हे,इसलिए अच्छी बात यह हे की आगे(future) की सोचकर अभी से अच्छे कर्म(good karma) करे और सुख की प्राप्ति करे.

If you like this Good Karma-Bad Karma story then please share it on Facebook, Google+, Whatsapp and other social media.

 

(Visited 200 times, 1 visits today)