Inspirational Story of Maurice Hilleman in Hindi

Maurice Hilleman American Biologist तो थे ही लेकिन साथ साथ वह vaccinology specialized भी थे, Maurice ने अपने career के दौरान 40 से ज्यादा vaccines(रसियो) का सर्जन किया जिसमे शीतला रोग(measles), कण्ठमाला का रोग(mumps), hepatitis A, hepatitis B, meningitis, चेचक(chickenpox), निमोनिया(pneumonia), Haemophilus influenzae bacteria, and रूबेला(rubella) जैसे रोगों की रसिया सम्मिलित हे.

Maurice Hilleman

उनके द्वारा विकसित दवाईयों से जो हररोज हजारो लोगो की जान बचती हे उनका श्रेय Maurice Hilleman को जाता हे.

Maurice Hilleman की प्रेरणादायक कहानी

Hilleman का बचपन काफी कठिनाइयों में गुजरा, उनके जन्म के दो दिन बाद ही उनकी माँ का देहांत हो गया, उनका जब जन्म हुआ तब America में मृत्र्युदर काफी ऊंचा था क्युकी उस वक्त उधर चेपी रोगों का फेलावा काफी ज्यादा था, उस वक्त Hilleman भी diphtheria की बीमारी से बाल बाल बचे थे.

इन्हें भी पढ़े>>>

Walt Disney की प्रेरणादायक कहानी 

Charlie Chaplin की प्रेरक कहानी 

न हाथ-न पैर फिर भी कैसे बने एक Successful Businessman? Nick Vujicic

पत्नी के जाने के बाद Hilleman के पिता अकेले पड़ गये थे, उनके शिर पर दो जिम्मेदारिया आ गई थी, एक तो बच्चे का लालन पालन करना और दूसरी खेती का काम करना, उनसे दो जिम्मेदारियों का बोज नहीं सहा गया इसलिए उन्होंने अपने बच्चे को अपने छोटे भाई को दे दिया.

यहाँ से Maurice Hilleman का खेती का काम वाला जीवन शुरू हुआ, Hilleman का ज्यादातर समय मुरघी पालन में, खेत मजूरी में और खेती की उपज बेचने में जाता, वह भले यह काम करता लेकिन उसका पूरा मन तो पढाई में ही था, उसे जो free time मिलता उसमे वह अपनी पढाई जारी रखता.

Hilleman ने जैसे तैसे कर अपने high school की शिक्षा और graduation complete किया, उसने अपना graduation तो पूरा किया लेकिन वह पर्याप्त नहीं था क्युकी उस वक्त पूरा America मंदी की चपेट में आ गया था, Hilleman का नसीब अच्छा था की उसको उस वक्त एक छोटीसी company में job मिल गई, यहाँ भी उसका मन नहीं लगा क्युकी उसका लक्ष्य तो काफी उचा था, उसे अभी आगे बहुत पढाई करनी थी इसलिए उसने कमाई के एकमात्र साधन को छोड़ दिया, उसने कई तकलीफे जेलकर Phd की शिक्षा प्राप्त की.

Amazon के मालिक Jeff Bezos की प्रेरणादायक कहानी

उसके रास्ते में आनेवाली बाधाओ ने उसे काफी मजबूत कर दिया था, उसने एक pharmaceutical company join की और अपनी पहली vaccines वहा पर ही develop की और साथ साथ उसने influenzae vaccines के थोक production की technique भी develop की, उसके बाद Hilleman को Maurice Merck and company में काम करने का मौका मिला और वहा उसने 45 सालो तक research के काम किये.

Maurice Hilleman ने बचपन में ही अपनी माँ को खोया, अपने पालक पिता के यहाँ खेती का काम कर बड़ा हुआ लेकिन फिर भी कुछ करने की चाहत में न जाने कितनी तकलीफों का सामना कर अपनी पढाई पूरी की और उस वक्त America में बहुत बड़ी आर्थिक मंदी के बावजूद दुनिया को अनेक vaccines, जो करोड़ो लोगो को घातक बीमारियों से बचा रहे हे की भेट दी.

If you like Maurice Hilleman’s inspirational story then please share it with others.

 

 

 

(Visited 49 times, 1 visits today)

2 Comments