3 Remarkable Money Saving Tips For Life

How to save money? यह प्रश्न काफी लोगो को सता रहा हे और कई लोग इसका जवाब नहीं जानते इसलिए में आज आपको best way to save money, पैसे बचाने के सर्वोत्तम तरीके बताऊंगा, यह money saving tips भी हे जो आपको life में काफी काम आएगी.

हमने ऐसे कई लोगो को, family को देखा होगा जिन्होंने अपने जीवन में बहुत पैसे बनाये होंगे और अपनी income को Property में परिवर्तित किया होगा और कुछ ऐसे लोग भी होंगे जिन्होंने अपनी दौलत लुटा दी होगी या गवा दी होगी, ऐसे बहुत कम लोग होते हे जो अपनी संपत्ति को पीढ़ियों तक बरकरार रखते हे, ऐसा कौनसा कारण हे की ढेरो रूपये कमाने वाला प्रत्येक व्यक्ति अपनी आय को संपत्ति में परिवर्तित कर पीढियों तक बरकरार रखने में सफल नहीं हो सकता?

money saving tips

Money saving tips-पैसे बचाने के लिए तीन प्रकार की मानसिकता की जरुरत पडती हे, इससे पैसो को संपत्ति में रूपांतरित किया जा सकता हे, यह पैसे बनाने की मानसिकता से थोड़ी अलग हे, उसमे भी संपत्ति को पीढियों तक बरकरार रखने की मानसिकता तो एकदम अलग हे और ऐसे तीनो प्रकार की मानसिकता रखने वाले लोग तो दर्लभ ही होंगे.

Best Way To Save Money: Money Saving Tips

1.पैसे बनाने के लिए passion, उत्साह, daring और Entrepreneurship भी चाहिए, पैसे बनाने के लिए बहार की दुनिया के साथ मिलकर काम पूरा करने की योग्यता की ज्यादा जरुरत पडती हे, इसलिए समाज के साथ मिलने जुलने की skill भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हे, पैसे बनाने के लिए आपके काम के क्षेत्र में निपुणता की जरुरत भी पडती हे.

How to get cooperation from others? क्या आपने कभी किसीसे सहयोग प्राप्त किया हे?

2.आगे बात हो गई पैसे बनाने की, उसके बाद जब संपत्ति सर्जन की बात आती हे तब पैसे बचाने की क्षमता अपनी भूमिका निभाएगी, पहला part income करना, संपत्ति खड़ी करना था, दूसरा part हे money saving करना और खर्च को कम करना, काफी लोग पैसे कमाने के बाद अपने हाथ खोल देते हे और आँखे बंध कर पैसे खर्च करते हे इसलिए उनके पैसे संपत्ति में रूपांतरित नहीं होते, यह money saving tips खास इस प्रकार के लोगो के लिए ही हे.

हम कई लोगो को देखते हे जिनकी income बढ़ते ही उनके बिन जरूरी खर्च भी बढ़ जाते हे, हमारी कुछ मुलभुत जरूरते हे जैसे अन्न, वस्त्र, आवास, यह जरुरियाते प्राप्त हो जाने के बाद अपने अहम को अंकुश में रखने की जरुरत पड़ती हे और self-discipline रखना  पड़ता हे, एकबार यदि आदमी अच्छी income करने लगे उसके बाद अपने अहंकार को संतोषने के लिए ज्यादा से ज्यादा चीजे खरीदता हे और सेवाओ का लाभ लेता हे, वह देखा देखि में ऐसी कई चीजे खरीदता हे जिसको उसे नहीं खरीदना चाहिए, वहा पैसे खर्च करता हे जहा उसे खर्च नहीं करने चाहिए, भौतिक सुविधाए कितनी मात्रा में हमारे पास होनी चाहिए उसकी कोई स्पष्ट मार्गदर्शिका नहीं बनी हे इसलिए पैसे उड़ाने और खर्च करने के मामले में सबको अपनी अपनी limit line fix कर लेनी चाहिए और self-discipline रखना चाहिए.

इन्हें भी पढ़े>>

आखिर Time Management क्यों जरुरी हे?

आप Low Self Esteem का सामना किस तरह से कर सकते हे

कुछ खास बाते जिनका ध्यान Bank Loan लेने से पहले रखना चाहिए

कई लोग होंगे जिनका जमाना होगा और उसमे वह अरबो-खरबों रूपये कमाए होंगे लेकिन बुढ़ापे के करीब पहुचते पहुचते वह दरिद्र बन गये होंगे, हमने कई businessman और actor-actress के ऐसे किस्से सुने होंगे, ऐसा इसलिए होता हे क्युकी उन्होंने पैसे कमाना तो सिखा लेकिन पैसे खर्च करना नहीं सिखा, उन्हें संयम रखना नहीं आया और इसलिए उनके पैसे कभी संपत्ति में रूपांतरित नहीं हुए, यदि income का सही तरीके से investment किया जाए तो वह property बन जाता हे.

हम तीन part की बात कर रहे हे, पैसे बनाना, पैसे बचाना और पैसे दूसरी पीढ़ी को देना, इसमें तीसरा तरीका काफी मुस्किल हे, दूसरी पीढ़ी को पैसे देना और वह उसे बनाए रखें वह सुनिश्चित करना, इसके लिए हमारे संतानों में अच्छे संस्कार और मूल्यों का सिंचन करना आवश्यक हे.

Howard University ने एक study की हे, जो पीढ़ी पैसे कमाती हे उसके बाद की पीढ़ी 70% पैसो को बर्बाद कर देती हे, मतलब की यदि मैंने 100 करोड़ कमाए तो मेरे बाद मेरे बच्चे उसको 30 या 40 करोड़ कर देंगे, केवल 5% पीढ़ी में ही पैसे चौथी पीढ़ी तक रहेंगे, वह उन पैसो को बरकरार रखते हे, जबकि 95% पीढ़ी पैसो को बरकरार नहीं रख पाती, ऐसा क्यों? क्युकी जो दूसरी पीढ़ी थी उन्होंने अपने बच्चो को महेनत और पैसो का महत्व समजाया ही नहीं, सब फोकट में दे दिया, तुम्हे phone चाहिए-यह लो, bike चाहि-यह लो, laptop चाहिए-यह लो.

3.पैसो के मामले में पहले खुद शिस्तबद्ध होना पड़ेगा उसके बाद हम अपने बच्चो को सिखा सकेंगे, पैसे न हो उस वक्त भी सरलता से जीवन जीना और पैसे हो तब भी सादगी से जीवन जीना-यह दोनों एकदम अलग चीजे हे, पैसे न हो तब तो हर कोई सादगी से जीवन जी लेता हे, लेकिन जब पैसे आने लगे तब सादगी को टिकाये रखने में आत्मसंयम और आत्मबल की परीक्षा होती हे, पैसे आते ही हम हवामे उड़ने लगते और हाथ खुल्ले रखकर पैसे खर्च करेंगे तो बाद में हमारे बच्चे भी वही सीखेंगे और आगे चलकर वह हमारे नक्शे-कदम पर चलेंगे, यदि हम चाहते हे की हमारे पैसे आनेवाली पीढियों तक चलते रहे तो हमे पैसे के कुछ हिस्से को समाज में बाटना पड़ेगा, जीसे तरह एक जगह पर ठहरा हुआ पानी खराब हो जाता हे, उससे बदबू आने लगती हे ठीक उस तरह यदि हम संपत्ति को बाटेंगे नहीं और उस पर अधिकार जमाकर बैठे रहेंगे तो वह दूषित हुए बिना रहेगी नहीं, यह स्थिति का सर्जन न हो इसलिए अलग मानसिकता की जरुरत पड़ती हे.

जिन लोगो की संपत्ति कई पीढियों तक चलती हे वह काफी उच्च कक्षा के लोग होते हे वह अपना जीवन सादगी से जीते हे और अपनी संपत्ति मानवजात के लिए खर्च करते हे, जब हम संपत्ति का सर्जन कर उसका सवर्धन करना सीखेंगे तब माँ लक्ष्मी की कृपा हम पर बरसेगी और हमारा घर धन से भर जाएगा.

यदि आपको यह money saving tips पसंद आई हो तो please इसे दुसरो लोगो के साथ share जरुर करे.

 

 

(Visited 51 times, 1 visits today)