13 Best Sermons of Bhagwat Geeta

Best Sermons-Preaching of Bhagwat Geeta – भगवत गीता के बेस्ट उपदेश.

Sermons of geeta

13 BEST SERMONS(उपदेश) OF BHAGWAT GEETA

1. जिसका जन्म हुआ हे उसकी मृत्यु और उसका वापिस जन्म निश्चित हे, इसलिए मृत्यु का शोक नहीं करना चाहिए .

2.परिवर्तन ही संसार का नियम हे, मनुष्य को इस बात का स्वीकार करना चाहिए, जो हुआ वह अच्छा हुआ, जो हो रहा हे वह अच्छा हो रहा हे, जो होगा वह भी अच्छा ही होगा, तुम्हारा क्या गया? जो तुम रोते हो, तुम क्या लाये थे? जो तुमने खो दिया, तुमने क्या पैदा किया? जो नष्ट हो गया, तुमने जो लिया यही से लिए, जो दिया यही पर दिया, जो आज तुम्हारा हे कल किसी और का होगा.

3.सुख-दुःख को समान द्रष्टि से देखना चाहिए.

4.आदमी को यह इन्द्रियों का गुलाम नहीं, लेकिन इन्द्रियों को गुलाम कैसे बनाये यह मन को सिखाना चाहिए.

5.सभी रोगों का उद्भव स्थान हे इच्छा, इच्छा पूरी न हो, उस वजह से क्रोध उत्पन्न होता हे, तब मानव की मती मारी जाती हे, उसे अच्छे और बुरे का फर्क समजमे नहीं आता, स्मरण शक्ति का नाश होता हे, वह अपना विवेक भूल जाता हे, जिस आदमी की बुद्धि भ्रमित हो जाती हे उसका विनाश निश्चित हे.

Trust in God: भगवान पर भरोषा रखे 

6.पवित्र, राजसी और चिड़चिड़ा प्रकृति के बिचके भेद को समजना जरुरी हे, मनुष्य का लक्ष्य चिड़चिड़ा प्रकृति से धार्मिक-पवित्र प्रकृति की और गति करने का होना चाहिए.

7.Bhagwat Geeta में सम्पूर्ण मानवधर्म की चर्चा की गई हे, साधारण स्थिति में से, उच्च मानवीय स्थिति प्राप्त करने के लिए ज्ञानयोग, कर्मयोग, भक्तियोग जैसे मार्गो का वर्णन किया गया हे, मनुष्य उसमें से अपनी प्रकृति अनुसार परम शक्ति का योग कर सकता हे.

8.अपनी प्रकृति अनुसार मानव कल्याण के लिए सतत कर्म करते रहकर, बिना मनवांछित फल की अपेक्षा रखे, कर्तव्यो का पालन करते रहना चाहिए.

ॐ मंत्र क्यों हररोज करना चाहिए 

9.Geeta में लिखा हे निराश मत होना, कमजोर तेरा वक्त हे तू नहीं, इसलिए मनुष्य को बिना निराश हुए आगे चलते रहना चाहिए.

10.यह शरीर नाशवान(Perishable) हे, केवल आत्मा अविनाशी(Indestructible) हे, इसलिए केवल आत्मकल्याण और विकास की साधना करनी चाहिए.

11.मन सच्चा और दिल अच्छा रखना चाहिए, इतिहास कहता हे की कल सुख था, विज्ञान कहता हे की कल सुख होगा, लेकिन धर्म कहता हे की, यदि मन सच्चा और दिल अच्छा हे तो हररोज सुख होगा.

क्या हे कर्म(Karma) का सिद्धांत 

12.सही चीज पर ध्यान दे, आप दुःख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे, सुख पर ध्यान देंगे तो सूखी रहेंगे, क्युकी आप जिस पर ध्यान देते हे वह चीज सक्रिय हो जाती हे, क्युकी ध्यान ही जीवन की सबसे बड़ी कुंजी हे,.

13.विश्वास बहुत बड़ी शक्ति हे, मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता हे,वह जैसा विश्वास करता हे, वैसा वह बन जाता हे.

If you like these sermons of Bhagwat Geeta then please share it with others.

(Visited 38 times, 1 visits today)