The real truth behind superstitious Indian beliefs in hindi

Superstitious Indian Beliefs– हमारे देश में काफी सालो से कुछ मान्यताये(Old Beliefs) चली आ रही हे और आज भी उसका पालन हो रहा हे,हमारे बुजुर्ग लोग इन मान्यताओं का बहुत श्ख्ती से पालन करते थे और कर रहे हे,हमको भी उन्होंने कई बातो पर टोका होगा के ऐसा नही करना हे,वैसा नही करना हे,आपने भी ऐसी कई मान्यताये हे जिनको माना होगा या फिर मान रहे होंगे,जैसे बिल्ली रास्ता काट जाए तो रास्ता बदल दो,बायीं आँख फडके तो कुछ असुभ होने वाला हे,तालाब या नदी में पैसे फेकना,श्मसान घाट से आकर न्हानेकी प्रथा वगैरह,मैंने भी कई beliefs को माना हे,क्युकी सच का पता नही था,हम मान लेते हे की यदि बड़े-बुजुर्ग लोग कुछ कह रहे हे तो सही ही होगा,लेकिन उसके पीछे का truth क्या हे यह हम  जानने की कोशिस नही करते.

Superstitious beliefs

घर और ऑफिस के बिच Co-Ordination कैसे रखे?

जो पूरानी मान्यताये(Superstitious Indian Beliefs) हे वह follow क्यों की जाती थी क्युकी उसके पीछे कुछ खास reasons थे,लेकिन लोगोने समय चलते इसे अंधविश्वास का रूप दे दिया,और वैसे ही उसको मानने लगे और ऐसा नही हे की सिर्फ गावो के अनपढ़ लोग ही इन अंधविश्वास में belief करते हे लेकिन पढ़े लिखे लोग भी इन अन्धविस्वासो में belief करते हे,तो चलिए जानते हे वह पूरानी मान्यताये(Old Beliefs) और उसके पिछेके सही कारण.

कुछ भी बोलनेसे पहले Choose Your Words Carefully

Indian superstitions beliefs and truth behind it

1.श्मसान घाट से आकर नहाने की प्रथा

पहले के जमानेमे हेपेटाइटिस और चिकेन पॉक्स जैसी बिमारिओ की दवाई उपलदब्ध नही थी,अंतिम संस्कार कर वापिस आने पर पहले इसलिए नहाया जाता था की शव के कीटाणु हमारे body को नुकशान न पहुचाये.

2.पीरियड्स में लेडीज अपवित्र होती हे

पीरियड्स के दिनों में ladies बहुत weakness feel करती हे और काफी तनावग्रस्त भी रहती हे,इस दौरान वह घरके कामकाज को करनेमे असमर्थ होती हे,इसलिए उनको आराम देनेके लिए घर से दूर रखी जाती,लेकिन समय के चलते इस बातने भी अंधविश्वास(Superstitious beliefs) का रूप ले लिया.

सत्यता की जांच के बिना केवल कही सुनी बात पर Believe मत करे

3.मंदिर में घंटी बजाना

हम जब भी मंदिर में प्रवेश करते हे तब पहले घंटी बजाते हे ऐसा मानकर की इससे भगवान खुस होंगे लेकिन सहिमे हमारे घंटी बजाने के बाद जो वाइब्रेशन होता हे वह हमारे शरीर पर काफी अच्छा प्रभाव डालता हे इससे positive energy increase होती हे और meditation में help मिलती हे.

4.रातके समय नाख़ून नही काटना

पहले नील कतर थे नही और light भी नही थी तो रात के समय नाख़ून काटते लग जाने का खतरा रहता, लेकिन समय चलते यह भी “Superstitious beliefs” में परिवर्तित हो गया.

Success होना हे तो जरुरी बदलाव लाते रहिये

5.Pregnent महिला को ग्रहण के समय बाहर नही जाता

इसके पीछे भी science हे,क्युकी ग्रहण के समय पर ऐसे किरण निकलते हे जो body को नुकशान पहुचा शकते हे.

6.मुर्त्यु के बाद आँखे बंध रखना

यह अंधविश्वास पुरे India में देखनेको मिलेगा,लोगो का मानना हे की यदि आँखे खुल्ली हो तो खराब आत्मा शरीर में प्रवेस कर शकती हे,लेकिन इसके पीछेका सही कारण यही हे की इससे देखने वालेको ऐसा लगे की मृतक आँख बढ़ कर सो रहा हे.

ज्यादा मह्त्वपूर्ण क्या हे Education या Skill Development?

7.रात को कचरा साफ़ करना और घर से बाहर नही निकलना चाहिए

पहले लाइट नही थी तो यदि कुछ कीमती चीज निचे जमीन पर पड़ी हो तो कचरे के साथ बाहर फेके जाने का खतरा रहता,इसलिए रातको कचरा साफ नही करते थे.

8.निम्बू और मिर्च बांधनेसे business अच्छा चलता हे

दूकान और घर पर निम्बू और मिर्च लगानेका कारण यह था की यह कीटाणुओ को दूर रखता हे,लेकिन समय चलते इसने भी अंधश्रद्धा का रूप ले लिया.

कितना मह्त्वपूर्ण हे Common Sense

9.छिपकली का गिरना अशुभ होता हे और इससे बड़ा नुकशान होता हे

हम सब जानते हे की छिपकली जहरीली होती हे,यदि छिपकली निचे गिरे और खाने पिने की चीजो के सम्पर्क में आये तो हमको नुकशान हो शकता हे,उस वक़्त लोग ऐसा मानते थे.

10.आँख का फड़कना

Eye lines muscles में activity होनेसे आँख फड़कती हे और हम कुछ अलग मान लेते हे.

एक अच्छे Teacher कैसे बने?

11.तालाब या नदी में सिक्के फेकना

आज भी आप train में जा रहे होंगे तो आपने देखा होगा लोगोको नदी आने पर उसमे सिक्के फेकते हुए,हम जानते हे की पहले के जमाने में सिक्के ताँबे(Copper) के हुआ करते थे और हम सब यह भी जानते हे की ताँबा पानी में रहे बेक्टेरिया को खत्म करनेकी क्षमता रखता हे,और साथमे ताँबा सेहत के लिए फायदाकारक हे,और दूसरी बात की पहले के जमानेमे जो मरजीवे(पानी पर निर्भर लोग) होते थे वह पानी में उतरकर सिक्के खोजते और उसीसे अपना जीवन निर्वाह चलाते थे इसलिए लोग पानी में सिक्के फेकते थे,लेकिन इसने भी समय चलते अलग ही रूप ले लिया.

12.Glass का टूटना

पहले के समय में ग्लास की किम्मत बहुत ज्यादा थी और टूटने पर बड़ा नुकशान होता था,इसलिए ग्लास का टूटना मतलब अशुभ ऐसी मान्यता फेल गई.

अपने बच्चे की Life को सही Direction कैसे दे?

13.बिल्ली का रास्ता काटना

हम सब जानते हे की पहले के समय में Bus,Truck जैसे vehicles इसलिए व्यापारी लोग अपना माल बैल गाडियो में भरकर एक शहर से दूसरे शहर जाते और हम सभीने देखा हे की रात को कोई भी जानवर होगा तो उसकी आँखे चमकती हे,इसलिए यदि बैल गाड़िया जा रही हो और रास्ते में cat आ जाए तो उसकी भी आँखे चमकती और इस वजह से गाय,बैल और घोड़े डर जाते इस स्थिति को देखकर व्यापारी थोड़ी देर रुक जाते और बिल्ली जाने पर निकलते,और यह बादमे अंधविस्वास(Superstitious beliefs) हो गया.

14. Monday और Tuesday को बाल नही धोना

पहले के जमाने में  पानी की कटौती रहती थी और pipe lines तो थी नही,तो घरमे पानी नही होने पर बहुत दूर लेने जाना पड़ता था और उस समय ज्यादातर महिलाये अपने बाल लम्बे रखती थी जिसे धोनेके लिए ज्यादा पानी की जरुरत भी रहती थी इसलिए हप्ते में दो बार बाल न धो कर पानी बचाया जाता था.

अब आपने जान लिया हे Superstitious Indian Beliefs के बारेमे की सच क्या था और कैसे logic और मह्त्वपूर्ण चीजे समय जाते अंधश्रद्धा में परिवर्तित हो गई और उस हिसाब से हम उन्हें मानने भी लगे.

kyaa yah post ko pdhkar aapko kuch nyi jaankari prapt hui?agar hui ho or yah post aapko psnd aayi ho to please ise apne friends or relatives ke sath share karna n bhule.

(Visited 243 times, 1 visits today)

2 Comments

  1. Shahin Akhter
  2. Amul Sharma